Do you have Questions? Ask an Astrologer now

	 

अधिक वजन सेहत के लिए हानिकारक है

How to do🪶🪶

 

Obesity is a term that means you have a body mass index (BMI) of 30 or higher. It makes you more likely to have conditions including: Heart disease and stroke High blood pressure Diabetes Some cancers Gallbladder disease and gallstones Osteoarthritis Gout Breathing problems, such as sleep apnea (when a person stops breathing for short episodes during sleep) and asthma Not everyone who is obese has these problems. The risk rises if you have a family history of one of those conditions.


	 
 

अधिक वजन सेहत के लिए हानिकारक है 1. अधिक वजन से सेहत को जोखिम देश भर में मोटापे की समस्या बढ़ रही है। इसका कारण शारीरिक श्रम कम करना, फास्ट फूड का सेवन व मसालेदार खानपान है। इसके चलते गंभीर बीमारियों को खतरा भी दिनों-दिनों बढ़ता जा रहा हैं। डॉक्टर मोटापे को जीवनशैली से जुड़ी बीमारी मानते हैं। डॉक्टरों के अनुसार, गंभीर बीमारियां मधुमेह, ब्लड प्रेशर, हृदय की बीमारियां, लकवा, गठिया, अवसाद, किडनी व कैंसर आदि मोटापे का ही परिणाम हैं। इसके अलावा अधिक वजन प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है। इसलिए अगर आप मोटापे के शिकार हैं तो जल्द से जल्द इसे कम करने के उपाय करें, क्योंकि मोटापे का मतलब सिर्फ बेडौल शरीर ही नहीं कई रोगों को बुलावा है। 2. जोड़ों की समस्‍या मोटापे में ज्यादातर लोग जोड़ों के दर्द का शिकार हो जाते हैं। उन्हें जोड़ों में उठते बैठते वक्त असहनीय दर्द झेलना पड़ता है। साथ ही अधिक दबाव के कारण जोड़ों पर अधिक भार पड़ने और कार्टिलेज की मात्रा के कम होने से आर्थराइटिस की समस्‍या होने लगती है। वजन बढ़ने से जोड़ो का प्रत्‍यारोपण भी लगभग 8.5 फीसदी अधिक होने लगता है। एक किलो वजन बढ़ने का मतलब है कि जोड़ों पर चार से छह गुना दबाव बढ़ जाता है। 3. हृदय रोग मोटापे से हृदय रोग का खतरा दोगुना हो जाता है। क्योंकि वजन बढ़ने से आपका हृदय शरीर के बाकी हिस्सों में सही ढंग से ब्लड सप्लाई नहीं कर पाता है। जिससे दिल का दौरा होने की संभावना होती है। इसके अलावा मोटापे से हृदय के आसपास की धमनियों में चर्बी जमा हो जाती है। और शरीर में वसा की मात्रा अधिक होने पर सोडियम इकट्ठा हो जाता है, इससे रक्त का दाबव बढ़ जाता है। यह दिल के लिए काफी नुकसानदेह होता है। जिससे हृदय की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। 4. डायबिटीज मोटापे की वजह से आप डायबटीज के शिकार हो सकते हैं, क्योंकि जब आप खाने में ग्लूकोज की मात्रा ज्यादा लेने लगते हैं तो मोटापे का शिकार हो जाते हैं। इस वजह से आपको मधुमेह होने का खतरा भी बढ़ जाता है। 5. डिप्रेशन मोटापे के कारण लोग डिप्रेशन के शिकार भी हो जाते हैं। लोगों की सोच नकारात्मक हो जाती है। हर समय दुखी रहते हैं। कभी-कभी तो लोग खुदकुशी की भी कोशिश करते हैं। 'क्लीनिकल साइकोलाजी' जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार मोटापा और डिप्रेशन एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। अगर आप में इन दोनों में से किसी एक की मौजूदगी है तो दूसरा खुद-ब-खुद आपके पास चला आता है। 6. कैंसर स्तन कैंसर, कमर का कैंसर या आंतो के कैंसर की सबसे बड़ी वजह मोटापा होता है। हाल ही में हुए शोधों में पता चला है कि विश्वभर में हर साल कैंसर के चार लाख 81 हजार से अधिक मामले मोटापे के कारण ही होते हैं। मोटापे के कारण सबसे ज्यादा ब्रेस्ट और कोलन कैंसर होने की आशंका रहती है। इसके अलावा पैनेक्रिएटिक या ओएसोफैगस कैंसर भी हो सकता है। बुरी खबर यह है कि इन दोनों कैंसर में बचने की संभावना बहुत कम होती है। 7. हार्निया हार्निया की मुख्य वजहों में से एक है मोटापा । मोटापे के चलते आपका डायफ्राम कमजोर हो जाता है या उसका आकार बढ़ जाता है, जिससे आप हार्निया के शिकार हो जाते हैं। वजन कम करने से आप इस खतरे से काफी हद तक बच सकते हैं। 8. आंतों की समस्या पूरी तरह स्वस्थ रहने के लिए आंतों का स्वस्थ रहना बहुत जरूरी होता है। लेकिन मोटापे के कारण आंत में समस्‍या आने लगती है। अधिक वजन बढ़ने से आंत की कोशिकाओं पर ज्यादा दबाव पड़ने लगता है। मोटापा बढ़ाने वाली चीजें खाने या एल्कोहल लेने पर आपकी आंत कमजोर हो जाती है और आंत से संबंधी बीमारियां हो सकती हैं।



Disclaimer(DMCA guidelines)

Please note Vedic solutions,remedies,mantra & Planetry positions are mentioned by Ancient Sages in Veda and it is same everywhere hence no one have sole proprietorship on these.Any one free to use the content.We have compiled the contents from different Indian scripture, consisting of the Rig Veda, Sama Veda, Yajur Veda, and Atharva Veda, which codified the ideas and practices of Vedic religion and laid down the basis of classical Hinduism with the sources,books,websites and blogs so that everyone can know the vedic science. If you have any issues with the content on this website do let us write on care.jyotishgher@gmail.com.

Explore Chalisha

FAQ