Emerald Stone / पन्ना | (PLANET : MERCURY)

Astrologically Benefits🪶🪶

जिन लोगों को व्यापार में लगातार घाटा हो रहा है, अगर बच्चे का पढ़ाई में मन नहीं लगता है, आंखों की समस्याओं से परेशान लोग और वाक् क्षमता भी ठीक नहीं है तो ऐसे में पन्ना रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है। लेकिन ध्यान रखें कि कभी भी नकली, टूटा-फूटा या फिर अन्य किसी रंग का पन्ना रत्न धारण न करें, नहीं तो इससे आपको घर-परिवार या धन से जुड़ी समस्याएं झेलनी पड़ सकती हैं। तो अब आइए जानते हैं पन्ना रत्न धारण करने से किस राशि के लोगों को बहुत फायदा मिलता है... रत्न शास्त्र के अनुसार ग्रहों के दुष्प्रभावों को कम करने और व्यक्ति के जीवन में सकारात्मकता बनाए रखने के लिए व्यक्ति को रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है. रत्नों को धारण करने से ग्रहों की शुभ प्रभावों में वृद्धि होती है और जीवन में तरक्की दिलाने का कारक बनते हैं. लेकिन रत्न शास्त्र में इस बात पर भी जोर दिया गया है कि राशि के अनुसार ही व्यक्ति को रत्न धारण करने चाहिए. इन्हीं रत्नों में एक रत्न है पन्ना (Panna Gem). पन्ना बुध ग्रह का प्रतिनिधि रत्न माना गया है. इसे इंग्लिश में एमराल्ड कहते हैं. पन्ना रत्न छात्रों के लिए काफी लाभकारी माना गया है. इसे पहनने से बुद्धि तेज होती है और स्मरण शक्ति बढ़ती है. वहीं, बिजनेस मेन के लिए भी ये रत्न काफी लाभकारी माना गया है. आइए जानते हैं कि पन्ना रत्न कब, किसे और कैसे धारण करना चाहिए. पन्ना धारण करने के लाभ (Benefits Of Panna Stone) पन्ना रत्न धारण करने के कई लाभ है. जहां व्यापार में लाभ प्राप्त होने लगता है. वहीं, बच्चों का पढ़ाई में भी मन लगने लगता है. जो छात्र जल्दी भूल जाते हैं, उनके लिए भी ये रत्न शुभ माना जाता है. रत्न शास्त्र के अनुसार नेत्र रोग से पीड़ित लोग भी पन्ना धारण कर सकते हैं. वहीं, जो लोग तोतला बोलते हैं या उच्चारण सही नहीं होता, उन्हें भी पन्ना धारण करने की सलाह दी जाती है. इसके साथ ही, मीडिया जगत से जुड़े लोग भी पन्ना धारण कर सकते हैं. किन राशियों के जातकों के लिए वरदान है पन्ना रत्न ज्योतिष शास्त्र में कहा गया है कि की भी कोई रत्न बिना किसी ज्योतिषीय सलाह या उपाय के धारण नहीं करना चाहिए। क्योंकि गलत परिस्थितियों और तरीके से रत्न धारण करना आपको फायदों की जगह नुकसान पहुंचा सकता है। वहीं ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मिथुन और कन्या राशि के लोगों के लिए पन्ना रत्न काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। क्योंकि मिथुन और कन्या इन दोनों राशियों पर बुध ग्रह का आधिपत्य माना गया है। इसके अतिरिक्त तुला, मकर, वृष और कुंभ राशि के व्यक्तियों को भी पन्ना रत्न पहनने की सलाह दी जाती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार आपको पन्ना रत्न पहनने से पहले इसे एक रात तक शहद, दूध, मिश्री और गंगाजल के मिश्रण में डालकर रखना चाहिए। साथ ही इन राशियों वाले लोग पन्ना रत्न को हाथ की सबसे छोटी उंगली में बुधवार के दिन ही धारण करें। इससे आपकी कुंडली का बुध ग्रह प्रबल होने के साथ ही आपके करियर के भी सफलता के रास्ते खुलने लगेंगे। पन्ना धारण करने के नियम (Panna Wearing Rules) ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पन्ना रत्न चांदी या सोने में जड़वाकर हाथ की सबसे छोटी उंगली में बुधवार के दिन ही धारण करना चाहिए. - पन्ना रत्न सूर्योदय से लगभग 10 बजे तक ही धारण किया जा सकता है. रत्न शास्त्र के अनुसार सोने में धारण करना शुभ माना जाता है. - पन्ना कम से कम सवा 7 कैरेट में ही धारण करना चाहिए. - पहनने से पहने पन्ना रत्न एक रात के लिए गंगाजल, शहद, मिश्री, और दूध के घोल में डुबोकर रख दें. - फिर बुधवार के दिन इसे निकाल कर धूप दीप दिखाएं और ऊं बुं बुधाय नमः मंत्र का 108 बार जाप कर धारण कर लें.


🪶🪶

Emerald is the gemstone of the planet Mercury and it blesses the wearer intelligence, logical skills, good marketing and business skills. It also helps an individual in retaining money and students who have difficulties in learning can wear this gemstone as it can help them to a greater extent. Which ascendants should wear Emerald? a) Individuals born in Taurus, Gemini, Virgo, Libra and Aquarius ascendant should wear emerald. b) Emerald stone benefits to Taurus ascendant individuals and Mercury is the lord of the second and fifth house. You should wear this stone if Mercury is afflicted by Saturn, Mars, Rahu and Ketu and combusted by the Sun. Emerald should be worn with White Sapphire to get outstanding results. c) Mercury is the lord of the ascendant and the tenth house for Gemini ascendant individuals and so the planet is one of the most powerful for them. You are likely to avail benefits if the planet is debilitated in the Pisces sign, afflicted by Mars, Saturn, Rahu and Ketu and combusted by the Sun. Under this situation, Emerald will neutralize the negative effect of the planet Mercury and you can attain positive results. d) Emerald is considered as the most effective gemstone for Virgo ascendant individuals. Emerald would neutralize the planet if Mercury is debilitated, combusted in between malefic planets like Saturn, Mars, Rahu and Ketu. e) Emerald gemstone is advisable to Libra ascendant individuals because Mercury is the lord of the ninth house and friendly to the ascendant lord. You can avail highly beneficial results if Emerald is worn with White Sapphire. f) Emerald gemstone is advisable to Capricorn ascendant individuals as Mercury being the lord of the sixth and ninth house is a beneficial planet for this ascendant. You can avail highly beneficial results if Emerald is worn with Blue Sapphire. Emerald can give extraordinary benefits during Mercury Mahadasha and Antardasha. g) Emerald gemstone is recommended to Aquarius ascendant individuals as Mercury being the lord of the sixth and ninth house is a beneficial planet for this ascendant. You can avail highly beneficial results if Emerald is worn with Blue Sapphire. Emerald can give extraordinary benefits during Mercury Mahadasha and Antardasha hence it is favourable for the above mentioned ascendants.


Price Expected🪶🪶

2000/carat


How To Order

By knowing these benefits; you can make a perfect choice to buy an original and non-fraudulent Stone from a renowned dealer or store. The most-recommended Jyotishgher Gems store can help you choose the right stone with proper carat/weight, certificate and recommendations based on your birth chart. You can also buy Stones online with equally fast, smooth and effective services.So Downlaod The Jyotishgher Veda Android App! Or You can write us on care.jyotishgher@gmail.com

More Gemstones for you